Yoga de la Distinction des trois Qualités
Onelittleangel > >  
(27 Slokas | Page 1 / 1)
Français
A- | A | A+ | T+

Version
Afficher
FrançaisAfficher
(Ⅱ)Afficher | Cacher


14.1
(Le Bienheureux:) « Je vais dire la Science sublime, la première des sciences, dont la possession a fait passer tous les Solitaires d’ici-bas à la béatitude ;

हरिगीता – अध्याय १४ चौदहवाँ अध्याय श्री भगवान् बोले अतिश्रेष्ठ ज्ञानों में बताता ज्ञान मैं अब और भी ||
मुनि पा गये हैं सिद्धि जिसको जानकर जग में सभी || १४. १ ||
(Ⅱ)

14.2
Pénétrés de cette Science, et parvenus à ma condition, ils ne re-naissent plus au jour de l’émission, et la dissolution des choses ne les atteint pas.

इस ज्ञान का आश्रय लिए जो रूप मेरा हो रहें ||
उत्पत्ति-काल न जन्म लें, लय-काल में न व्यथा सहें || १४. २ ||
(Ⅱ)

14.3
J’ai pour matrice la Divinité suprême ; c’est là que je dépose un germe qui est, ô Bhârata, l’origine de tous les vivants.

इस प्रकृति अपनी योनि में, मैं गर्भ रखता हूँ सदा ||
उत्पन्न होते हैं उसीसे सर्व प्राणी सर्वदा || १४. ३ ||
(Ⅱ)

14.4
Des corps qui prennent naissance dans toutes les matrices, Brahmâ est la matrice immense ; et je suis le père qui fournit la se-mence.

सब योनियों में मूर्तियों के जो अनेकों रूप हैं ||
मैं बीज-प्रद पिता हूँ, प्रकृति योनि अनूप हैं || १४. ४ ||
(Ⅱ)

14.5
Vérité, instinct, obscurité, tels sont les modes qui naissent de la nature et qui lient au corps l’âme inaltérable.

पैदा प्रकृति से सत्त्व, रज, तम त्रिगुण का विस्तार है ||
इस देह में ये जीव को लें बांध, जो अविकार है || १४. ५ ||
(Ⅱ)

14.6
La vérité, brillante et saine par son incorruptibilité, l’attache par la tendance au bonheur et la science ;

अविकार सतगुण है प्रकाशक, क्योंकि निर्मल आप है ||
यह बांध लेता जीव को सुख ज्ञान से निष्पाप है || १४. ६ ||
(Ⅱ)

14.7
L’instinct, parent de la passion et procédant de l’appétit, l’attache par la tendance à l’action ;

जानो रजोगुण रागमय, उत्पन्न तृष्णा संग से ||
वह बांध लेता जीव को कौन्तेय, कर्म-प्रसंग से || १४. ७ ||
(Ⅱ)

14.8
Quant à l’obscurité, sache, fils de Kuntî, qu’elle procède de l’ignorance et qu’elle porte le trouble dans toutes les âmes ; elle les enchaîne par la stupidité, la paresse et l’engourdissement.

अज्ञान से उत्पन्न तम सब जीव को मोहित करे ||
आलस्य, नींद, प्रमाद से यह जीव को बन्धित करे || १४. ८ ||
(Ⅱ)

14.9
La vérité ravit les âmes dans la douceur ; la passion les ravit dans l’oeuvre ; l’obscurité, voilant la vérité, les ravit dans la stupeur.

सुख में सतोगुण, कर्म में देता रजोगुण संग है ||
ढ़क कर तमोगुण ज्ञान को, देता प्रमाद प्रसंग है || १४. ९ ||
(Ⅱ)

14.10
La vérité naît de la défaite des instincts et de l’ignorance, ô Bhâ-rata ; l’instinct, de la défaite de l’ignorance et de la vérité ; l’ignorance, de la défaite de la vérité et de l’instinct.

रज तम दबें तब सत्त्व गुण, तम सत्व दबते रज बढ़े ||
रज सत्त्व दबते ही तमोगुण देहधारी पर चढ़े ||. १४. १० ||
(Ⅱ)

14.11
Lorsque dans ce corps la lumière de la science pénètre par toutes les portes, la vérité alors est dans sa maturité.

जब देह की सब इन्द्रियों में ज्ञान का हो चाँदना ||
तब जान लेना चाहिए तन में सतोगुण है घना || १४. ११ ||
(Ⅱ)

14.12
L’ardeur à entreprendre les oeuvres et à y procéder, l’inquiétude, le vif désir naissent de l’instinct parvenu à sa maturité.

तृष्णा अशान्ति प्रवृत्ति होकर मन प्रलोभन में पड़े ||
आरम्भ होते कर्म के अर्जुन, रजोगुण जब बढ़े || १४. १२ ||
(Ⅱ)

14.13
L’aveuglement, la lenteur, la stupidité, l’erreur naissent, fils de Kuru, de l’obscurité parvenue à sa maturité.

कौन्तेय, मोह प्रमाद हो, जब हो न मन में चाँदना ||
उत्पन्न हो आलस्य जब, होता तमोगुण है घना || १४. १३ ||
(Ⅱ)

14.14
Lorsque, dans l’âge mûr de la vérité, un mortel arrive à la disso-lution de son corps, il se rend à la demeure sans tache des clair-voyants.

इस देह में यदि सत्त्वगुण की वृद्धि मरते काल है ||
तो प्राप्त करता ज्ञानियों का शुद्ध लोक विशाल है || १४. १४ ||
(Ⅱ)

14.15
Celui qui meurt dans la passion renaît parmi des êtres poussés par la passion d’agir. Si l’on meurt dans l’obscurité de l’âme, on renaît dans la matrice d’une race stupide.

रज-वृद्धि में मर, देह कर्मासक्त पुरुषों में धरे ||
जड़ योनियों में जन्मता, यदि जन तमोगुण में मरे || १४. १५ ||
(Ⅱ)

14.16
Le fruit d’une bonne action est appelé pur et vrai ; le fruit de la passion est le malheur ; celui de l’obscurité est l’ignorance.

फल पुण्य कर्मों का सदा शुभ श्रेष्ठ सात्त्विक ज्ञान है ||
फल दुख रजोगुण का, तमोगुण-फल सदा अज्ञान है || १४. १६ ||
(Ⅱ)

14.17
De la vérité naît la science ; de l’instinct, l’ardeur avide ; de l’obscurité naissent la stupidité, l’erreur et l’ignorance aussi.

उत्पन्न सत से ज्ञान, रज से नित्य लोभ प्रधान है ||
है मोह और प्रमाद तमगुण से सदा अज्ञान है || १४. १७ ||
(Ⅱ)

14.18
Les hommes de vérité vont en haut ; les passionnés, dans une région moyenne ; les hommes de ténèbres, qui demeurent dans la condition infime, vont en bas.

सात्त्विक पुरुष स्वर्गादि में, नरलोक में राजस बसें ||
जो तामसी गुण में बसें, वे जन अधोगति में फँसें || १४. १८ ||
(Ⅱ)

14.19
Quand un homme considère et reconnaît qu’il n’y a pas d’autre agent que ces trois qualités, et sait ce qui leur est supérieur, alors il marche vers ma condition.

कर्ता न कोई तज त्रिगुण, यह देखता द्रष्टा जभी ||
जाने गुणों से पार जब, पाता मुझे है जन तभी || १४. १९ ||
(Ⅱ)

14.20
Le mortel qui a franchi ces trois qualités, issues du corps, échappe à la naissance, à la mort, à la vieillesse, à la douleur, et se re-paît d’ambroisie. »

जो देहधारी, देह-कारण पार ये गुण तीन हो ||
छुट जन्म मृत्यु जरादि दुख से, वह अमृत में लीन हो || १४. २० ||
(Ⅱ)

14.21
(Arjuna.:) « Quel signe, Seigneur, porte celui qui a franchi les trois quali-tés? Quelle est sa conduite ? Et comment s’affranchit-il de ces quali-tés ? »

अर्जुन बोले
लक्षण कहो उनके प्रभो, जन जो त्रिगुण से पार हैं ||
किस भाँति होते पार, क्या उनके कहो आचार हैं || १४. २१ ||
(Ⅱ)

14.22
(Le Bienheureux:) « Fils de Pându, celui qui, en présence de l’évidence, de l’activité, ou de l’erreur, ne les hait pas, et qui, en leur absence, ne les désire pas ;

श्री भगवान् बोले
पाकर प्रकाश, प्रवृत्ति, मोह, न पार्थ, इनसे द्वेष है ||
यदि हों नहीं वे प्राप्त, उनकी लालसा न विशेष है || १४. २२ ||
(Ⅱ)

14.23
Qui assiste à leur développement en spectateur et sans s’émouvoir, et s’éloigne avec calme en disant : « C’est la marche des qualités ; »

रहता उदासीन-सा गुणों से, होए नहीं विचलित कहीं ||
सब त्रिगुण करते कार्य हैं, यह जान जो डिगता नहीं || १४. २३ ||
(Ⅱ)

14.24
Celui qui, égal au plaisir et à la douleur, maître de lui-même, voit du même oeil la motte de terre, la pierre et l’or ; tient avec fermeté la balance égale entre les joies et les peines, entre le blâme et l’éloge qu’on fait de lui ;

है स्वस्थ, सुख-दुख सम जिसे, सम ढेल पत्थर स्वर्ण भी ||
जो धीर, निन्दास्तुति जिसे सम, तुल्य अप्रिय-प्रिय सभी || १४. २४ ||
(Ⅱ)

14.25
Entre les honneurs et l’opprobre, entre l’ami et l’ennemi ; qui pratique le renoncement dans tous ses actes ; celui-là s’est affranchi des qualités.

सम बन्धु वैरी हैं जिसे अपमान मान समान है ||
आरम्भ त्यागे जो सभी, वह गुणातीत महान है || १४. २५ ||
(Ⅱ)

14.26
Quand on me sert dans l’union d’un culte qui ne varie pas, on a franchi les qualités, et l’on devient participant de l’essence de Dieu.

जो शुद्ध निश्चल भक्ति से भजता मुझे है नित्य ही ||
तीनों गुणों से पार होकर ब्रह्म को पाता वही || १४. २६ ||
(Ⅱ)

14.27
Car je suis la demeure de Dieu, de l’inaltérable ambroisie, de la justice éternelle et du bonheur infini. »

अव्यय अमृत मैं और मैं ही ब्रह्मरूप महान हूँ ||
मैं ही सनातन धर्म और अपार मोद-निधान हूँ || १४. २७ ||
(Ⅱ)


Page:  1

Menu livre ↑