Yoga du Renoncement de la Délivrance
Onelittleangel > >  
(79 Slokas | Page 2 / 2)
Sanskrit
A- | A | A+ | T+

Version
Afficher
SanskritAfficher
(Ⅰ)Afficher | Cacher


18.51
कर आत्म संयम धैर्य से अतिशुद्ध मति में लीन हो ||
सब त्याग शब्दादिक विषय, नित राग-द्वेष-विहीन हो || १८. ५१ ||


La raison purifiée, ferme en son coeur, soumis, détaché du bruit et des autres sensations, ayant chassé les désirs et les haines ; (Ⅰ)

18.52
एकान्तसेबी अल्प-भोजी, तन मन वचन को वश किए ||
हो ध्यान-युक्त सदैव ही, वैराग्य का आश्रय लिए || १८. ५२ ||


Seul en un lieu solitaire, vivant de peu, maître de sa parole, de son corps et de sa pensée, toujours pratiquant l’Union spirituelle, at-tentif à écarter les passions ; (Ⅰ)

18.53
बल अहंकार घमण्ड संग्रह क्रोध काम विमुक्त हो ||
ममता-रहित नर शान्त, ब्रह्म-विहार के उपयुक्त हो || १८. ५३ ||


Exempt d’égoïsme, de violence, d’orgueil, d’amour, de colère, privé de tout cortège, ne pensant pas à lui-même, pacifié : il devient participant de la nature de Dieu. (Ⅰ)

18.54
जो ब्रह्मभूत प्रसन्न-मन है, चाह-चिन्ता-हीन है ||
सम भाव सबमें साध, होता भक्ति में लवलीन है || १८. ५४ ||


Uni à Dieu, l’âme sereine, il ne souffre plus, il ne désire plus. Égal envers tous les êtres, il reçoit mon culte suprême. (Ⅰ)

18.55
मैं कौन कैसा, भक्ति से उसको सभी यह ज्ञान हो ||
मुझमें मिले तत्काल, मेरी जब तत्त्व से पहचान हो || १८. ५५ ||


Par ce culte, il me connaît, tel que je suis, dans ma grandeur, dans mon essence ; et, me connaissant de la sorte, il entre en moi et ne se distingue plus. (Ⅰ)

18.56
करता रहे सब कर्म भी, मेरा सदा आश्रय धरे ||
मेरी कृपा से प्राप्त वह अव्यय सनातन पद करे || १८. ५६ ||


Celui qui, sans relâche, accomplit sa fonction en s’adressant à moi, atteint aussi, par ma grâce, à la demeure éternelle et immuable. (Ⅰ)

18.57
मन से मुझे सारे समर्पित कर्म कर, मत्पर हुआ ||
मुझमें निरंतर चित्त धर, सम-बुद्धि में तत्पर हुआ || १८. ५७ ||


Fais donc en moi, par la pensée, le renoncement de toutes les oeuvres ; pratique l’Union spirituelle, et pense à moi toujours. (Ⅰ)

18.58
रख चित्त मुझमें, मम कृपा से दुःख सब तर जायेगा ||
अभिमान से मेरी न सुनकर, नाश केवल पायेगा || १८. ५८ ||


En pensant à moi, tu traverseras par ma grâce tous les dangers ; mais si, par orgueil, tu ne m’écoutes, tu périras. (Ⅰ)

18.59
‘मैं नहीं करूँगा युद्ध’ तुम अभिमान से कहते अभी ||
यह व्यर्थ निश्चय है, प्रकृति तुमसे करा लेगी सभी || १८. ५९ ||


T’en rapportant à toi-même, tu te dis : « Je ne combattrai pas » ; c’est une résolution vaine ; la nature te fera violence. (Ⅰ)

18.60
करना नहीं जो चाहता है, मोह में तल्लीन हो ||
वह सब करेगा स्वभावजन्य कर्म के आधीन हो || १८. ६० ||


Lié par ta fonction naturelle, fils de Kuntî, ce que dans ton erreur tu désires ne pas faire, tu le feras malgré toi-même. (Ⅰ)

18.61
ईश्वर हृदय में प्राणियों के बस रहा है नित्य ही ||
सब जीव यन्त्रारूढ़ सा, माया से घुमाता है वही || १८. ६१ ||


Dans le coeur de tous les vivants, Arjuna, réside un maître qui les fait mouvoir par sa magie comme par un mécanisme caché. (Ⅰ)

18.62
इस हेतु ले उसकी शरण, सब भाँति से सब ओर से ||
शुभ शान्ति लेगा नित्य-पद, उसकी कृपा की कोर से || १८. ६२ ||


Réfugie-toi en lui de toute ton âme, ô Bhârata ; par sa grâce, tu atteindras à la paix suprême, à la demeure éternelle. (Ⅰ)

18.63
तुझसे कहा अतिगुप्त ज्ञान, समस्त यह विस्तार से ||
जिस भाँति जो चाहे वही कर पार्थ, पूर्ण विचार से || १८. ६३ ||


Je t’ai exposé la Science dans ses mystères les plus secrets. Examine-la tout entière, et puis agis selon ta volonté. (Ⅰ)

18.64
अब अन्त में अतिगुप्त हे कौन्तेय, कहता बात हूँ ||
अतिप्रिय मुझे तू, अस्तु हित की बात कहता तात हँ ऊ || १८. ६४ ||


Toutefois, écoute encore mes dernières paroles où se résument tous les mystères, car tu es mon bien-aimé ; mes paroles te seront pro-fitables : (Ⅰ)

18.65
रख मन मुझी में, कर यजन, मम भक्त बन, कर वन्दना ||
मुझमें मिलेगा, सत्य प्रण तुझसे, मुझे तू प्रिय घना || १८. ६५ ||


Pense à moi ; sers-moi ; offre-moi le Sacrifice et l’Adoration : par là, tu viendras à moi ; ma promesse est véridique, et tu m’es cher. (Ⅰ)

18.66
तज धर्म सारे एक मेरे ही शरण को प्राप्त हो ||
मैं मुक्त पापों से करूँगा, तू न चिन्ता व्याप्त हो || १८. ६६ ||


Renonce à tout autre culte ; que je sois ton unique refuge ; je te délivrerai de tous les péchés : ne pleure pas. (Ⅰ)

18.67
निन्दा करे मेरी, न सुनना चाहता, बिन भक्ति है ||
उसको न देना ज्ञान यह, जिसमें नहीं तप शक्ति है || १८. ६७ ||


Ne répète mes paroles ni à l’homme sans continence, ni à l’homme sans religion, ni à qui ne veut pas entendre, ni à qui me re-nie ; (Ⅰ)

18.68
यह गुप्त ज्ञान महान भक्तों से कहेगा जो सही ||
मुझमें मिले पा भक्ति मेरी, असंशय, नर वही || १८. ६८ ||


Mais celui qui transmettra ce Mystère suprême à mes serviteurs, me servant lui-même avec ferveur, viendra vers moi sans aucun doute ; (Ⅰ)

18.69
उससे अधिक प्रिय कार्य-कर्ता विश्व में मेरा नहीं ||
उससे अधिक मुझको न प्यारा दूसरा होगा कहीं || १८. ६९ ||


Car nul homme ne peut rien faire qui me soit agréable ; et nul autre sur terre ne me sera plus cher que lui. (Ⅰ)

18.70
मेरी तुम्हारी धर्म-चर्चा जो पढ़े गा ध्यान से ||
मैं मानता पूजा मुझे है, ज्ञानयज्ञ विधान से || १८. ७० ||


Celui qui lira le saint entretien que nous venons d’avoir, m’offrira par là-même un Sacrifice de Science : telle est ma pensée. (Ⅰ)

18.71
बिन दोष ढूँढे जो सुनेगा, नित्य श्रद्धायुक्त हो ||
वह पुण्यवानों का परम शुभ लोक लेगा मुक्त हो || १८. ७१ ||


Et l’homme de foi qui, sans résistance, l’aura seulement écouté, obtiendra aussi la délivrance et ira dans le séjour des bienheureux dont les oeuvres ont été pures. (Ⅰ)

18.72
अर्जुन, कहो तुमने सुना यह ज्ञान सारा ध्यान से ||
अब भी छूटे हो या नहीं, उस मोहमय अज्ञान से || १८. ७२ ||


Fils de Prithâ, as-tu écouté ma parole en fixant ta pensée sur l’Unité ? Le trouble de l’ignorance a-t-il disparu pour toi, prince géné-reux ? » (Ⅰ)

18.73
अर्जुन बोले
अच्युत, कृपा से आपकी, अब मोह सब जाता रहा ||
संशय रहित हूँ, सुधि आई, करूँगा हरि का कहा || १८. ७३ ||


(Arjuna.:) « Le trouble a disparu. Dieu auguste, j’ai reçu par ta grâce la tra-dition sainte. Je suis affermi ; le doute est dissipé ; je suivrai ta pa-role. » (Ⅰ)

18.74
संजय बोले
इस भाँति यह रोमांचकारी और श्रेष्ठ रहस्य भी ||
श्रीकृष्ण अर्जु न का सुना संवाद है मैंने सभी || १८. ७४ ||


(Sanjaya. :) « Ainsi, tandis que parlaient Vâsudêva et le magnanime fils de Prithâ, j’écoutais la conversation sublime qui fait dresser la chevelure. (Ⅰ)

18.75
साक्षात् योगेश्वर स्वयं श्रीकृष्ण का वर्णन किया ||
यह श्रेष्ठ योग-रहस्य व्यास-प्रसाद से सब सुन लिया || १८. ७५ ||


Depuis que, par la grâce de Vyâsa, j’ai entendu ce Mystère su-prême de l’Union mystique exposé par le Maître de l’Union lui-même, par Krishna : (Ⅰ)

18.76
श्रीकृष्ण अर्जु न का निराला पुण्यमय संवाद है ||
हर बार देता हर्ष है, आता मुझे जब याद है || १८. ७६ ||


O mon roi, je me rappelle, je me rappelle sans cesse ce sublime, ce saint dialogue d’Arjuna et du guerrier chevelu, et je suis dans la joie toujours, toujours. (Ⅰ)

18.77
जब याद आता उस अनोखे रूप का विस्तार है ||
होता तभी विस्मय तथा आनन्द बारम्बार है || १८. ७७ ||


Et quand je pense, quand je pense encore à cette forme surnatu-relle de Hari, je demeure stupéfait et ma joie n’a plus de fin. (Ⅰ)

18.78
श्रीकृष्ण योगेश्वर जहाँ, अर्जुन धनुर्धारी जहाँ ||
वैभव, विजय, श्री, नीति सब मत से हमारे हैं वहाँ || १८. ७८ ||


Là où est le Maître de l’Union, Krishna, là où est l’archer fils de Prithâ, là aussi est le bonheur, la victoire, le salut, là est la stabilité : telle est ma pensée. » (Ⅰ)

18.79
अट्ठारहवाँ अध्याय समाप्त हुआ
ॐ तत्सदिति श्रीमद्भगवद्गीतासूपनिषत्सु ब्रह्मविद्यायां योगशास्त्रे
श्रीकृष्णार्जुनसंवादे मोक्षसंन्यासयोगो नाम अष्टादशोऽध्यायः ||



Page:  1 |2

Menu livre ↑