Yoga de la Distinction de la Matière et de l’Idée
Onelittleangel > >  
(35 Slokas | Page 1 / 1)
Version Sanskrit




Versions
Comparer
(Ⅰ)

13. 1  
श्री भगवान् बोले -
कौन्तेय, यह तन क्षेत्र है ज्ञानी बताते हैं यही |
जो जानता इस क्षेत्र को क्षेत्रज्ञ कहलाता वही || १३. १ ॥

(Le Bienheureux:) « Fils de Kuntî, ce corps est appelé Matière, et le sujet qui connaît est appelé par les savants Idée de la Matière. (Ⅰ)

*****

13. 2  
हे पार्थ, क्षेत्रों में मुझे क्षेत्रज्ञ जान महान तू |
क्षेत्रज्ञ एवं क्षेत्र का सब ज्ञान मेरा जान तू || १३. २ ॥

Sache donc, fils de Bhârata, que, dans tous les êtres matériels, je suis l’Idée de la Matière. La science qui embrasse la Matière et son Idée est à mes yeux la vraie science. (Ⅰ)

*****

13. 3  
वह क्षेत्र जो, जैसा, जहाँ से, जिन विकारों-युत, सभी |
संक्षेप में सुन, जिस प्रभाव समेत वह क्षेत्रज्ञ भी || १३. ३ ॥

Apprends donc en résumé la nature de la Matière, ses qualités, ses modifications, son origine, ainsi que la nature de l’Esprit et ses facultés. (Ⅰ)

*****

13. 4  
बहु भाँति ऋषियों और छन्दों से अनेक प्रकार से |
गाया पदों में ब्रह्मसूत्रों के सहेतु विचार से || १३. ४ ॥

Ces sujets ont été bien des fois et séparément chantés par les Sa-ges dans des rythmes variés, et dans les vers des Sûtras brâhmaniques qui traitent et raisonnent des causes. (Ⅰ)

*****

13. 5  
मन बुद्धि एवं महाभूत प्रकृति अहंकृत भाव भी |
पाँचों विषय सब इन्द्रियों के और इन्द्रियगण सभी || १३. ५ ॥

Les grands principes des êtres, le moi, la raison, l’abstrait, les onze organes des sens et les cinq ordres de perceptions ; (Ⅰ)

*****

13. 6  
सुख-दुःख इच्छा द्वेष धृत्ति संघात एवं चेतना |
संक्षेप में यह क्षेत्र है समुदाय जो इनका बना || १३. ६ ॥

Puis le désir, la haine, le plaisir, la douleur, l’imagination, l’entendement, la suite des idées : voilà en résumé ce que l’on nomme la Matière, avec ses modifications. (Ⅰ)

*****

13. 7  
अभिमान दम्भ अभाव, आर्जव, शौच, हिंसाहीनता |
थिरता, क्षमा, निग्रह तथा आचार्य-सेवा दीनता || १३. ७ ॥

La modestie, la sincérité, la mansuétude, la patience, la droiture, le respect du précepteur, la pureté, la constance, l’empire sur soi-même ; (Ⅰ)

*****

13. 8  
इन्द्रिय-विषय-वैराग्य एवं मद सदैव निवारना |
जीवन, जरा, दुख, रोग. मृत्यु सदोष नित्य विचारना || १३. ८ ॥

L’indifférence pour les choses sensibles, l’absence d’égoïsme, le compte fait de la naissance, de la mort, de la vieillesse, de la maladie, de la douleur, du péché ; (Ⅰ)

*****

13. 9  
नहिं लिप्त नारी पुत्र में, सब त्यागना फल-वासना |
नित शुभ अशुभ की प्राप्ति में भी एकसा रहना बना || १३. ९ ॥

Le désintéressement, le détachement à l’égard des enfants, de la femme, de la maison et des autres objets ; la perpétuelle égalité de l’âme dans les événements désirés ou redoutés ; (Ⅰ)

*****

13. 10  
मुझमें अनन्य विचार से व्यभिचार विरहित भक्ति हो |
एकान्त का सेवन, न जन समुदाय में आसक्ति हो || १३. १० ॥

Un culte constant et fidèle dans une union exclusive avec moi ; la retraite en un lieu écarté, l’éloignement des joies du monde ; (Ⅰ)

*****

13. 11  
अध्यात्मज्ञान व तत्त्वज्ञान विचार, यह सब ज्ञान है |
विपरीत इनके और जो कुछ है सभी अज्ञान है || १३. ११ ॥

La perpétuelle contemplation de l’Ame suprême ; la vue de ce que produit la connaissance de la vérité : voilà ce qu’on nomme la Science ; le contraire est l’Ignorance. (Ⅰ)

*****

13. 12  
अब वह बताता ज्ञेय जिसके ज्ञान से निस्तार है |
नहिं सत् असत्, परब्रह्म तो अनादि और अपार है || १३. १२ ॥

Je vais donc te dire ce qu’il faut savoir, ce qui est pour l’homme l’aliment d’immortalité : Dieu, sans commencement et suprême, ne peut être appelé un être ni un non-être ; (Ⅰ)

*****

13. 13  
सर्वत्र उसके पाणि पद सिर नेत्र मुख सब ओर ही |
सब ओर उसके कान हैं, सर्वत्र फैला है वही || १३. १३ ॥

Doué en tous lieux de mains et de pieds, d’yeux et d’oreilles, de têtes et de visages, il réside dans le monde, qu’il embrasse tout entier. (Ⅰ)

*****

13. 14  
इन्द्रिय-गुणों का भास उसमें किन्तु इन्द्रिय-हीन है |
हो अलग जग-पालक, निर्गुण होकर गुणों में लीन है || १३. १४ ॥

Il illumine toutes les facultés sensitives, sans avoir lui-même au-cun sens ; détaché de tout, il est le soutien de tout ; sans modes, il per-çoit tous les modes ; (Ⅰ)

*****

13. 15  
भीतर व बाहर प्राणियों में दूर भी है पास भी
वह चर अचर अति सूक्ष्म है जाना नहीं जाता कभी || १३. १५ ॥

Intérieur et extérieur aux êtres vivants également immobile et en mouvement, indiscernable par sa subtilité et de loin et de près ; (Ⅰ)

*****

13. 16  
अविभक्त होकर प्राणियों में वह विभक्त सदैव है |
वह ज्ञेय पालक और नाशक जन्मदाता देव है || १३. १६ ॥

Sans être partagé entre les êtres, il est répandu en eux tous ; sou-tien des êtres, il les absorbe et les émet tour à tour. (Ⅰ)

*****

13. 17  
वह ज्योतियों की ज्योति है, तम से परे है, ज्ञान है |
सब में बसा है, ज्ञेय है, वह ज्ञानगम्य महान् है || १३. १७ ॥

Lumière des corps lumineux, il est par-delà les ténèbres. Science, objet de la science, but de la science, il est au fond de tous les coeurs. (Ⅰ)

*****

13. 18  
यह क्षेत्र, ज्ञान, महान् ज्ञेय, कहा गया संक्षेप से |
हे पार्थ, इसको जान मेरा भक्त मुझमें आ बसे || १३. १८ ॥

Tels sont, en abrégé, la Matière, la Science, et l’objet de la Science. Mon serviteur, qui sait discerner ces choses, parvient jusqu’à mon essence. (Ⅰ)

*****

13. 19  
यह प्रकृति एवं पुरुष दोनों ही अनादि विचार हैं |
पैदा प्रकृति से ही समझ, गुण तीन और प्रकार हैं || १३. १९ ॥

Sache que la Nature et le Principe Masculin sont exempts tous deux de commencement, et que les changements et les modes tirent leur origine de la nature. (Ⅰ)

*****

13. 20  
है कार्य एवं करण की उत्पत्ति कारण प्रकृति ही |
इस जीव को कारण कहा, सुख-दुःख भोग निमित्त्त ही || १३. २० ॥

La cause active contenue dans l’acte corporel, c’est la nature ; le Principe Masculin est la cause qui perçoit le plaisir et la douleur. (Ⅰ)

*****

13. 21  
रहकर प्रकृति में नित पुरुष, करता प्रकृति-गुण भोग है |
अच्छी बुरी सब योनियाँ, देता यही गुण-योग है || १३. २१ ॥

En effet, en résidant dans la nature, ce Principe perçoit les modes naturels ; et c’est par sa tendance vers ces modes qu’il s’engendre dans une matrice bonne on mauvaise. (Ⅰ)

*****

13. 22  
द्रष्टा व अनुमन्ता सदा, भर्ता प्रभोक्ता शिव महा |
इस देह में परमात्मा, उस पर-पुरुष को है कहा || १३. २२ ॥

Spectateur et moniteur, soutenant et percevant toutes choses, souverain maître, Ame universelle qui réside en ce corps, tel est le principe Masculin suprême. (Ⅰ)

*****

13. 23  
ऐसे पुरुष एवं प्रकृति को, गुण सहित जो जान ले |
बरताव कैसा भी करे वह जन्म फिर जग में न ले || १३. २३ ॥

Celui qui connaît ce Principe et la Nature avec ses modes, en quelque condition qu’il se trouve, ne doit plus renaître. (Ⅰ)

*****

13. 24  
कुछ आप ही में आप आत्मा देखते हैं ध्यान से |
कुछ कर्म-योगी कर्म से, कुछ सांख्य-योगी ज्ञान से || १३. २४ ॥

Plusieurs contemplent l’Ame par eux-mêmes en eux mêmes ; d’autres, par une union rationnelle ; d’autres par l’Union mystique des oeuvres (Ⅰ)

*****

13. 25  
सुन दूसरों से ही किया करते भजन अनजान हैं |
तरते असंशय मृत्यु वे, श्रुति में लगे मतिमान् हैं || १३. २५ ॥

D’autres enfin, qui l’ignoraient, apprennent d’autrui à la connaî-tre et s’y appliquent : tous ces hommes, adonnés à la Science divine, échappent également à la mortalité. (Ⅰ)

*****

13. 26  
जानो चराचर जीव जो पैदा हुए संसार में |
सब क्षेत्र और क्षेत्रज्ञ के संयोग से विस्तार में || १३. २६ ॥

Quand s’engendre un être quelconque, mobile ou immobile, sa-che, fils de Bhârata, que cela se fait par l’union de la Matière et de l’idée. (Ⅰ)

*****

13. 27  
अविनाशि, नश्वर सर्वभूतों में रहे सम नित्य ही |
इस भाँति ईश्वर को पुरुष जो देखता देखे वही || १३. २७ ॥

Celui-là voit juste qui voit ce principe souverain uniformément répandu dans tous les vivants et ne périssant pas quand ils périssent ; (Ⅰ)

*****

13. 28  
जो देखता समभाव से ईश्वर सभी में व्याप्त है |
करता न अपनी घात है, करता परमपद प्राप्त है || १३. २८ ॥

En le voyant égal et également présent en tous lieux, il ne se fait aucun tort à lui-même et il entre, par après, dans la voie supérieure. (Ⅰ)

*****

13. 29  
करती प्रकृति सब कर्म, आत्मा है अकर्ता नित्य ही |
इस भाँति से जो देखता है, देखता है जन वही || १३. २९ ॥

S’il voit que l’accomplissement des actes est entièrement l’oeuvre de la Nature et que lui-même n’en est pas l’agent, il voit juste. (Ⅰ)

*****

13. 30  
जब प्राणियों की भिन्नता जन एक में देखे सभी |
विस्तार देखे एक से ही, ब्रह्म को पाता तभी || १३. ३० ॥

Quand il voit l’essence individuelle des êtres résidant dans l’unité et tirant de là son développement, il marche vers Dieu. (Ⅰ)

*****

13. 31  
यह ईश अव्यय, निर्गुण और अनादि होने से सदा |
करता न होता लिप्त है, रह देह में भी सर्वदा || १३. ३१ ॥

Comme elle est exempte de commencement et de modes, cette Ame suprême inaltérable, fils de Kuntî, tout en résidant dans un corps, n’y agit pas, n’y est pas souillée. (Ⅰ)

*****

13. 32  
नभ सर्वव्यापी सूक्ष्म होने से न जैसे लिप्त हो |
सर्वत्र आत्मा देह में रहकर न वैसे लिप्त हो || १३. ३२ ॥

Comme l’air répandu en tous lieux, qui, par sa subtilité, ne reçoit aucune souillure : ainsi l’Ame demeure partout sans tache dans son union avec le corps. (Ⅰ)

*****

13. 33  
ज्यों एक रवि सम्पूर्ण जग में तेज भरता है सदा |
यों ही प्रकाशित क्षेत्र को क्षेत्रज्ञ करता सर्वदा || १३. ३३ ॥

Comme le Soleil éclaire à lui seul tout ce monde : ainsi l’Idée illumine toute la Matière. (Ⅰ)

*****

13. 34  
क्षेत्रज्ञ एवं क्षेत्र अन्तर, ज्ञान से समझें सही |
समझें प्रकृति से छूटना, जो ब्रह्म को पाते वही || १३. ३४ ॥

Ceux qui par l’oeil de la science voient la différence de la Ma-tière et de son Idée, et la délivrance des liens de la nature, ceux-là vont en haut. » (Ⅰ)

*****

13. 35  
ॐ तत्सदिति त्रयोदशोऽध्यायः ॥ तेरहवाँ अध्याय समाप्त हुआ || १३ ॥



Page: 1

13 





Home | ♥ Notre Projet ♥ ⇄ ♥ Votre projet ♥