Yoga de la Distinction de la Matière et de l’Idée
Onelittleangel > >  
(34 Slokas | Page 1 / 1)
Français
A- | A | A+ | T+

Version
Afficher
FrançaisAfficher
(Ⅱ)Afficher | Cacher


13.1
(Le Bienheureux:) « Fils de Kuntî, ce corps est appelé Matière, et le sujet qui connaît est appelé par les savants Idée de la Matière.

श्री भगवान् बोले -
कौन्तेय, यह तन क्षेत्र है ज्ञानी बताते हैं यही |
जो जानता इस क्षेत्र को क्षेत्रज्ञ कहलाता वही || १३. १ ॥
(Ⅱ)

13.2
Sache donc, fils de Bhârata, que, dans tous les êtres matériels, je suis l’Idée de la Matière. La science qui embrasse la Matière et son Idée est à mes yeux la vraie science.

हे पार्थ, क्षेत्रों में मुझे क्षेत्रज्ञ जान महान तू |
क्षेत्रज्ञ एवं क्षेत्र का सब ज्ञान मेरा जान तू || १३. २ ॥
(Ⅱ)

13.3
Apprends donc en résumé la nature de la Matière, ses qualités, ses modifications, son origine, ainsi que la nature de l’Esprit et ses facultés.

वह क्षेत्र जो, जैसा, जहाँ से, जिन विकारों-युत, सभी |
संक्षेप में सुन, जिस प्रभाव समेत वह क्षेत्रज्ञ भी || १३. ३ ॥
(Ⅱ)

13.4
Ces sujets ont été bien des fois et séparément chantés par les Sa-ges dans des rythmes variés, et dans les vers des Sûtras brâhmaniques qui traitent et raisonnent des causes.

बहु भाँति ऋषियों और छन्दों से अनेक प्रकार से |
गाया पदों में ब्रह्मसूत्रों के सहेतु विचार से || १३. ४ ॥
(Ⅱ)

13.5
Les grands principes des êtres, le moi, la raison, l’abstrait, les onze organes des sens et les cinq ordres de perceptions ;

मन बुद्धि एवं महाभूत प्रकृति अहंकृत भाव भी |
पाँचों विषय सब इन्द्रियों के और इन्द्रियगण सभी || १३. ५ ॥
(Ⅱ)

13.6
Puis le désir, la haine, le plaisir, la douleur, l’imagination, l’entendement, la suite des idées : voilà en résumé ce que l’on nomme la Matière, avec ses modifications.

सुख-दुःख इच्छा द्वेष धृत्ति संघात एवं चेतना |
संक्षेप में यह क्षेत्र है समुदाय जो इनका बना || १३. ६ ॥
(Ⅱ)

13.7
La modestie, la sincérité, la mansuétude, la patience, la droiture, le respect du précepteur, la pureté, la constance, l’empire sur soi-même ;

अभिमान दम्भ अभाव, आर्जव, शौच, हिंसाहीनता |
थिरता, क्षमा, निग्रह तथा आचार्य-सेवा दीनता || १३. ७ ॥
(Ⅱ)

13.8
L’indifférence pour les choses sensibles, l’absence d’égoïsme, le compte fait de la naissance, de la mort, de la vieillesse, de la maladie, de la douleur, du péché ;

इन्द्रिय-विषय-वैराग्य एवं मद सदैव निवारना |
जीवन, जरा, दुख, रोग. मृत्यु सदोष नित्य विचारना || १३. ८ ॥
(Ⅱ)

13.9
Le désintéressement, le détachement à l’égard des enfants, de la femme, de la maison et des autres objets ; la perpétuelle égalité de l’âme dans les événements désirés ou redoutés ;

नहिं लिप्त नारी पुत्र में, सब त्यागना फल-वासना |
नित शुभ अशुभ की प्राप्ति में भी एकसा रहना बना || १३. ९ ॥
(Ⅱ)

13.10
Un culte constant et fidèle dans une union exclusive avec moi ; la retraite en un lieu écarté, l’éloignement des joies du monde ;

मुझमें अनन्य विचार से व्यभिचार विरहित भक्ति हो |
एकान्त का सेवन, न जन समुदाय में आसक्ति हो || १३. १० ॥
(Ⅱ)

13.11
La perpétuelle contemplation de l’Ame suprême ; la vue de ce que produit la connaissance de la vérité : voilà ce qu’on nomme la Science ; le contraire est l’Ignorance.

अध्यात्मज्ञान व तत्त्वज्ञान विचार, यह सब ज्ञान है |
विपरीत इनके और जो कुछ है सभी अज्ञान है || १३. ११ ॥
(Ⅱ)

13.12
Je vais donc te dire ce qu’il faut savoir, ce qui est pour l’homme l’aliment d’immortalité : Dieu, sans commencement et suprême, ne peut être appelé un être ni un non-être ;

अब वह बताता ज्ञेय जिसके ज्ञान से निस्तार है |
नहिं सत् असत्, परब्रह्म तो अनादि और अपार है || १३. १२ ॥
(Ⅱ)

13.13
Doué en tous lieux de mains et de pieds, d’yeux et d’oreilles, de têtes et de visages, il réside dans le monde, qu’il embrasse tout entier.

सर्वत्र उसके पाणि पद सिर नेत्र मुख सब ओर ही |
सब ओर उसके कान हैं, सर्वत्र फैला है वही || १३. १३ ॥
(Ⅱ)

13.14
Il illumine toutes les facultés sensitives, sans avoir lui-même au-cun sens ; détaché de tout, il est le soutien de tout ; sans modes, il per-çoit tous les modes ;

इन्द्रिय-गुणों का भास उसमें किन्तु इन्द्रिय-हीन है |
हो अलग जग-पालक, निर्गुण होकर गुणों में लीन है || १३. १४ ॥
(Ⅱ)

13.15
Intérieur et extérieur aux êtres vivants également immobile et en mouvement, indiscernable par sa subtilité et de loin et de près ;

भीतर व बाहर प्राणियों में दूर भी है पास भी
वह चर अचर अति सूक्ष्म है जाना नहीं जाता कभी || १३. १५ ॥
(Ⅱ)

13.16
Sans être partagé entre les êtres, il est répandu en eux tous ; sou-tien des êtres, il les absorbe et les émet tour à tour.

अविभक्त होकर प्राणियों में वह विभक्त सदैव है |
वह ज्ञेय पालक और नाशक जन्मदाता देव है || १३. १६ ॥
(Ⅱ)

13.17
Lumière des corps lumineux, il est par-delà les ténèbres. Science, objet de la science, but de la science, il est au fond de tous les coeurs.

वह ज्योतियों की ज्योति है, तम से परे है, ज्ञान है |
सब में बसा है, ज्ञेय है, वह ज्ञानगम्य महान् है || १३. १७ ॥
(Ⅱ)

13.18
Tels sont, en abrégé, la Matière, la Science, et l’objet de la Science. Mon serviteur, qui sait discerner ces choses, parvient jusqu’à mon essence.

यह क्षेत्र, ज्ञान, महान् ज्ञेय, कहा गया संक्षेप से |
हे पार्थ, इसको जान मेरा भक्त मुझमें आ बसे || १३. १८ ॥
(Ⅱ)

13.19
Sache que la Nature et le Principe Masculin sont exempts tous deux de commencement, et que les changements et les modes tirent leur origine de la nature.

यह प्रकृति एवं पुरुष दोनों ही अनादि विचार हैं |
पैदा प्रकृति से ही समझ, गुण तीन और प्रकार हैं || १३. १९ ॥
(Ⅱ)

13.20
La cause active contenue dans l’acte corporel, c’est la nature ; le Principe Masculin est la cause qui perçoit le plaisir et la douleur.

है कार्य एवं करण की उत्पत्ति कारण प्रकृति ही |
इस जीव को कारण कहा, सुख-दुःख भोग निमित्त्त ही || १३. २० ॥
(Ⅱ)

13.21
En effet, en résidant dans la nature, ce Principe perçoit les modes naturels ; et c’est par sa tendance vers ces modes qu’il s’engendre dans une matrice bonne on mauvaise.

रहकर प्रकृति में नित पुरुष, करता प्रकृति-गुण भोग है |
अच्छी बुरी सब योनियाँ, देता यही गुण-योग है || १३. २१ ॥
(Ⅱ)

13.22
Spectateur et moniteur, soutenant et percevant toutes choses, souverain maître, Ame universelle qui réside en ce corps, tel est le principe Masculin suprême.

द्रष्टा व अनुमन्ता सदा, भर्ता प्रभोक्ता शिव महा |
इस देह में परमात्मा, उस पर-पुरुष को है कहा || १३. २२ ॥
(Ⅱ)

13.23
Celui qui connaît ce Principe et la Nature avec ses modes, en quelque condition qu’il se trouve, ne doit plus renaître.

ऐसे पुरुष एवं प्रकृति को, गुण सहित जो जान ले |
बरताव कैसा भी करे वह जन्म फिर जग में न ले || १३. २३ ॥
(Ⅱ)

13.24
Plusieurs contemplent l’Ame par eux-mêmes en eux mêmes ; d’autres, par une union rationnelle ; d’autres par l’Union mystique des oeuvres

कुछ आप ही में आप आत्मा देखते हैं ध्यान से |
कुछ कर्म-योगी कर्म से, कुछ सांख्य-योगी ज्ञान से || १३. २४ ॥
(Ⅱ)

13.25
D’autres enfin, qui l’ignoraient, apprennent d’autrui à la connaî-tre et s’y appliquent : tous ces hommes, adonnés à la Science divine, échappent également à la mortalité.

सुन दूसरों से ही किया करते भजन अनजान हैं |
तरते असंशय मृत्यु वे, श्रुति में लगे मतिमान् हैं || १३. २५ ॥
(Ⅱ)

13.26
Quand s’engendre un être quelconque, mobile ou immobile, sa-che, fils de Bhârata, que cela se fait par l’union de la Matière et de l’idée.

जानो चराचर जीव जो पैदा हुए संसार में |
सब क्षेत्र और क्षेत्रज्ञ के संयोग से विस्तार में || १३. २६ ॥
(Ⅱ)

13.27
Celui-là voit juste qui voit ce principe souverain uniformément répandu dans tous les vivants et ne périssant pas quand ils périssent ;

अविनाशि, नश्वर सर्वभूतों में रहे सम नित्य ही |
इस भाँति ईश्वर को पुरुष जो देखता देखे वही || १३. २७ ॥
(Ⅱ)

13.28
En le voyant égal et également présent en tous lieux, il ne se fait aucun tort à lui-même et il entre, par après, dans la voie supérieure.

जो देखता समभाव से ईश्वर सभी में व्याप्त है |
करता न अपनी घात है, करता परमपद प्राप्त है || १३. २८ ॥
(Ⅱ)

13.29
S’il voit que l’accomplissement des actes est entièrement l’oeuvre de la Nature et que lui-même n’en est pas l’agent, il voit juste.

करती प्रकृति सब कर्म, आत्मा है अकर्ता नित्य ही |
इस भाँति से जो देखता है, देखता है जन वही || १३. २९ ॥
(Ⅱ)

13.30
Quand il voit l’essence individuelle des êtres résidant dans l’unité et tirant de là son développement, il marche vers Dieu.

जब प्राणियों की भिन्नता जन एक में देखे सभी |
विस्तार देखे एक से ही, ब्रह्म को पाता तभी || १३. ३० ॥
(Ⅱ)

13.31
Comme elle est exempte de commencement et de modes, cette Ame suprême inaltérable, fils de Kuntî, tout en résidant dans un corps, n’y agit pas, n’y est pas souillée.

यह ईश अव्यय, निर्गुण और अनादि होने से सदा |
करता न होता लिप्त है, रह देह में भी सर्वदा || १३. ३१ ॥
(Ⅱ)

13.32
Comme l’air répandu en tous lieux, qui, par sa subtilité, ne reçoit aucune souillure : ainsi l’Ame demeure partout sans tache dans son union avec le corps.

नभ सर्वव्यापी सूक्ष्म होने से न जैसे लिप्त हो |
सर्वत्र आत्मा देह में रहकर न वैसे लिप्त हो || १३. ३२ ॥
(Ⅱ)

13.33
Comme le Soleil éclaire à lui seul tout ce monde : ainsi l’Idée illumine toute la Matière.

ज्यों एक रवि सम्पूर्ण जग में तेज भरता है सदा |
यों ही प्रकाशित क्षेत्र को क्षेत्रज्ञ करता सर्वदा || १३. ३३ ॥
(Ⅱ)

13.34
Ceux qui par l’oeil de la science voient la différence de la Ma-tière et de son Idée, et la délivrance des liens de la nature, ceux-là vont en haut. »

क्षेत्रज्ञ एवं क्षेत्र अन्तर, ज्ञान से समझें सही |
समझें प्रकृति से छूटना, जो ब्रह्म को पाते वही || १३. ३४ ॥
(Ⅱ)


Page:  1

Menu livre ↑