Yoga de la Connaissance
Onelittleangel > >  
(31 Slokas | Page 1 / 1)
Version Sanskrit




Versions
Comparer
(Ⅰ)

7. 1  
श्रीभगवान् ने कहा - -
मुझमें लगा कर चित्त मेरे आसरे कर योग भी ।
जैसा असंशय पूर्ण जानेगा मुझे वह सुन सभी ॥ ७ । १ ॥

(Le Bienheureux:) « Si tu fixes sur moi ton esprit, pratiquant l’Union mystique, at-tentif à moi, écoute, fils de Prithâ, comment alors tu me connaîtras tout entier avec évidence. (Ⅰ)

*****

7. 2  
विज्ञान- युत वह ज्ञान कहता हूँ सभी विस्तार में ।
जो जान कर कुछ जानना रहता नहीं संसार में ॥ ७ । २ ॥

Je vais t’exposer complètement, avec ses divisions, cette science au delà de laquelle, ici-bas, il ne reste rien à apprendre : (Ⅰ)

*****

7. 3  
कोई सहस्रों मानवों में सिद्धि करना ठानता ।
उन यत्नशीलों में मुझे कोई यथावत् जानता ॥ ७ । ३ ॥

De tant de milliers d’hommes, quelques-uns seulement s’efforcent vers la perfection ; et parmi ces sages excellents, un seul à peine me connaît selon mon essence. (Ⅰ)

*****

7. 4  
पृथ्वी, पवन, जल, तेज, नभ, मन, अहंकार व बुद्धि भी ।
इन आठ भागों में विभाजित है प्रकृति मेरी सभी ॥ ७ । ४ ॥

La terre, l’eau, le feu, le vent, l’air, l’esprit, la raison et le moi, telle est ma nature divisée en huit éléments : (Ⅰ)

*****

7. 5  
हे पार्थ! वह ' अपरा' प्रकृति का जान लो विस्तार है ।
फिर है ' परा' यह जीव जो संसार का आधार है ॥ ७ । ५ ॥

C’est l’inférieure. Connais-en maintenant une autre qui est ma nature supérieure, principe de vie qui soutient le monde. (Ⅰ)

*****

7. 6  
उत्पन्न दोनों से इन्हीं से जीव हैं जग के सभी ।
मैं मूल सब संसार का हूँ और मैं ही अन्त भी ॥ ७ । ६ ॥

C’est dans son sein que résident tous les êtres vivants ; com-prends-le ; car la production et la dissolution de l’Univers, c’est moi-même ; (Ⅰ)

*****

7. 7  
मुझसे परे कुछ भी नहीं संसार का विस्तार है ।
जिस भांति माला में मणी, मुझमें गुथा संसार है ॥ ७ । ७ ॥

Au-dessus de moi il n’y a rien ; à moi est suspendu l’Univers comme une rangée de perles à un fil. (Ⅰ)

*****

7. 8  
आकाश में ध्वनि, नीर में रस, वेद में ओंकार हूँ ।
पौरुष पुरुष में, चाँद सूरज में प्रभामय सार हूँ ॥ ७ । ८ ॥

Je suis dans les eaux la saveur, fils de Kuntî ; je suis la lumière dans la Lune et le Soleil ; la louange dans tous les Vêdas ; le son dans l’air ; la force masculine dans les hommes ; (Ⅰ)

*****

7. 9  
शुभ गन्ध वसुधा में सदा मैं प्राणियों में प्राण हूँ ।
मैं अग्नि में हूँ तेज, तपियों में तपस्या ज्ञान हूँ ॥ ७ । ९ ॥

Le parfum pur dans la terre ; dans le feu la splendeur ; la vie dans tous les êtres ; la continence dans les ascètes. (Ⅰ)

*****

7. 10  
हे पार्थ! जीवों का सनातन बीज हूँ, आधार हूँ ।
तेजस्वियों में तेज, बुध में बुद्धि का भण्डार हूँ ॥ ७ । १० ॥

Sache, fils de Prithâ, que je suis la semence inépuisable de tous les vivants ; la science des sages, le courage des vaillants ; (Ⅰ)

*****

7. 11  
हे पार्थ! मैं कामादि राग- विहीन बल बलवान् का ।
मैं काम भी हूँ धर्म के अविरुद्ध विद्यावान् का ॥ ७ । ११ ॥

La vertu des forts exempte de passion et de désir. Je suis dans les êtres animés l’attrait que la justice autorise. (Ⅰ)

*****

7. 12  
सत और रज, तम भाव मुझसे ही हुए हैं ये सभी ।
मुझमें सभी ये किन्तु मैं उनमें नहीं रहता कभी ॥ ७ । १२ ॥

Je suis la source des propriétés qui naissent de la vérité, de la passion et de l’obscurité ; mais je ne suis pas en elles, elles sont en moi. (Ⅰ)

*****

7. 13  
इन त्रिगुण भावों में सभी भूला हुआ संसार है ।
जाने न अव्यय- तत्त्व मेरा जो गुणों से पार है ॥ ७ । १३ ॥

Troublé par les modes de ces trois qualités, ce monde entier mé-connaît que je leur suis supérieur et que je suis indestructible. (Ⅰ)

*****

7. 14  
यह त्रिगुणदैवी घोर माया अगम और अपार है ।
आता शरण मेरी वही जाता सहज में पार है ॥ ७ । १४ ॥

Cette magie, que je développe dans les modes des choses, est difficile à franchir ; on y échappe en me suivant ; (Ⅰ)

*****

7. 15  
पापी, नराधम, ज्ञान माया ने हरा जिनका सभी ।
वे मूढ़ आसुर बुद्धि- वश मुझको नहीं भजते कभी ॥ ७ । १५ ॥

Mais ne sauraient me suivre, ni les méchants, ni les âmes trou-blées, ni ces hommes infimes dont l’intelligence est en proie aux illu-sions des sens et qui sont de la nature des démons. (Ⅰ)

*****

7. 16  
अर्जुन! मुझे भजता सुकृति- समुदाय चार प्रकार का ।
जिज्ञासु, ज्ञानीजन, दुखी- मन, अर्थ- प्रिय संसार का ॥ ७ । १६ ॥

Quatre classes d’hommes de bien m’adorent, Arjuna : l’affligé, l’homme désireux de savoir, celui qui veut s’enrichir, et le sage. (Ⅰ)

*****

7. 17  
नित- युक्त ज्ञानी ष्रेष्ठ, जो मुझमें अनन्यासक्त है ।
मैं क्योंकि ज्ञानी को परम प्रिय, प्रिय मुझे वह भक्त है ॥ ७ । १७ ॥

Ce dernier, toujours en contemplation, attaché à un culte unique, surpasse tous les autres. Car le sage m’aime par-dessus toutes choses, et je l’aime de même. (Ⅰ)

*****

7. 18  
वे सब उदार, परन्तु मेरा प्राण ज्ञानी भक्त है ।
वह युक्त जन, सर्वोच्च- गति मुझमें सदा अनुरक्त है ॥ ७ । १८ ॥

Tous ces serviteurs sont bons ; mais le sage, c’est moi même ; car, dans l’Union mentale, il me suit comme sa voie dernière (Ⅰ)

*****

7. 19  
जन्मान्तरों में जानकर, ' सब वासुदेव यथार्थ है' ।
ज्ञानी मुझे भजता, सुदुर्लभ वह महात्मा पार्थ है ॥ ७ । १९ ॥

Et, après plusieurs renaissances, le sage vient à moi. — « L’Univers, c’est Vâsudêva » ; celui qui parle ainsi ne peut compren-dre la Grande Ame de l’Univers. (Ⅰ)

*****

7. 20  
निज प्रकृति- प्रेरित, कामना द्वारा हुए हत ज्ञान से ।
कर नियम भजते विविध विध नर अन्य देव विधान से ॥ ७ । २० ॥

Ceux dont l’intelligence est en proie aux désirs se tournent vers d’autres divinités ; ils suivent chacun son culte, enchaînés qu’ils sont par leur propre nature. (Ⅰ)

*****

7. 21  
जो जो कि जिस जिस रूप की पूजा करे नर नित्य ही ।
उस भक्त की करता उसी में, मैं अचल श्रद्धा वही ॥ ७ । २१ ॥

Quelle que soit la personne divine à laquelle un homme offre son culte, j’affermis sa foi en ce dieu ; (Ⅰ)

*****

7. 22  
उस देवता को पूजता फिर वह, वही श्रद्धा लिये ।
निज इष्ट- फल पाता सकल, निर्माण जो मैने किये ॥ ७ । २२ ॥

Tout plein de sa croyance, il s’efforce de le servir ; et il obtient de lui les biens qu’il désire et dont je suis le distributeur. (Ⅰ)

*****

7. 23  
ये मन्दमति नर किन्तु पाते, अन्तवत फल सर्वदा ।
सुर- भक्त सुर में, भक्त मेरे, आ मिलें मुझमें सदा ॥ ७ । २३ ॥

Mais bornée est la récompense de ces hommes de peu d’intelligence : ceux qui sacrifient aux dieux vont aux dieux ; ceux qui m’adorent viennent à moi. (Ⅰ)

*****

7. 24  
अव्यक्त मुझको व्यक्त, मानव मूढ़ लेते मान हैं ।
अविनाशि अनुपम भाव मेरा वे न पाते जान हैं ॥ ७ । २४ ॥

Les ignorants me croient visible, moi qui suis invisible : c’est qu’ils ne connaissent pas ma nature supérieure, inaltérable et su-prême ; (Ⅰ)

*****

7. 25  
निज योगमाया से ढका सबको न मैं, दिखता कहीं ।
अव्यय अजन्मा मैं, मुझे पर मूढ़ नर जानें नहीं ॥ ७ । २५ ॥

Car je ne me manifeste pas à tous, enveloppé que je suis dans la magie que l’Union spirituelle dissipe. Le monde plein de trouble ne me connaît pas, moi qui suis exempt de naissance et de destruction. (Ⅰ)

*****

7. 26  
होंगे, हुए हैं, जीव जो मुझको सभी का ज्ञान है ।
इनको किसी को किन्तु कुछ मेरी नहीं पहिचान है ॥ ७ । २६ ॥

Je connais les êtres passés et présents, Arjuna, et ceux qui se-ront ; mais nul d’eux ne me connaît. (Ⅰ)

*****

7. 27  
उत्पन्न इच्छा द्वेष से जो द्वन्द्व जग में व्याप्त हैं ।
उनसे परंतप ! सर्व प्राणी मोह करते प्राप्त हैं ॥ ७ । २७ ॥

Par le trouble d’esprit qu’engendrent les désirs et les aversions, ô Bhârata, tous les vivants en ce monde courent à l’erreur ; (Ⅰ)

*****

7. 28  
पर पुण्यवान् मनुष्य जिनके छुट गये सब पाप हैं ।
दृढ़ द्वन्द्व- मोह- विहीन हो भजते मुझे वे आप हैं ॥ ७ । २८ ॥

Mais ceux qui, par la pureté des oeuvres, ont effacé leurs péchés, échappent au trouble de l’erreur et m’adorent dans la persévérance, (Ⅰ)

*****

7. 29  
करते ममाश्रित जो जरा- मृति- मोक्ष के हित साधना ।
वे जानते हैं ब्रह्म, सब अध्यात्म, कर्म महामना ॥ ७ । २९ ॥

Ceux qui se réfugient en moi et cherchent en moi la délivrance de la vieillesse et de la mort connaissent Dieu, l’Ame suprême, et l’Acte dans sa plénitude ; (Ⅰ)

*****

7. 30  
अधि- भूत, दैव व यज्ञ- युत, जो विज्ञ मुझको जानते ॥ वे युक्त- चित मरते समय में भी मुझे पहिचानते ॥ ७ । ३० ॥

Et ceux qui savent que je suis le Premier Vivant, la Divinité Première, et le Premier Sacrifice, ceux-là, au jour même du départ, Unis à moi par la pensée, me connaissent encore. » (Ⅰ)

*****

7. 31  
सातवां अध्याय समाप्त हुआ ॥ ७ ॥



Page: 1

7 





Home | ♥ Notre Projet ♥ ⇄ ♥ Votre projet ♥